Search Angika Kahavat Kosh

Monday, 25 July 2005

ठारी के चुकलऽ बानर आरी के चुकलऽ गृहस्त | अंगिका कहावत

ठारी के चुकलऽ बानर आरी के चुकलऽ गृहस्त


अर्थ -  डाल के चूके बंदर और आर (खेत के मेढ़) को अच्छी तरह से बाँधने में चूके गृहस्थ को कहीं भी शरण नहीं मिलती  ।

No comments:

Post a comment

Note: only a member of this blog may post a comment.

Search Angika Kahavat

Carousel Display

अंगिकाकहावत

वेब प अंगिका कहावत के वृहत संग्रह

A Collection of Angika Language Proverbs on the web




संपर्क सूत्र

Name

Email *

Message *